Labels

Saturday, 8 September 2012

एक   ख़्वाब मेरा बादल
 सा उस पार चला गया
था तो भीगा सा...
पर  कुछ इन आँखों सा 
बिन बरसा ही रह गया..

No comments:

Post a Comment